Success ka Shortcut in Hindi- नमस्कार दोस्तों कैसे है आप सब उम्मीद करता हूँ अच्छे होंगे :-

एक बार एक गाव में एक आदमी आया और उसने एक स्कीम बताए, उनके गांव में बहुत सारे बन्दर थे उसने सभी गांव वालो को इक्कठा किया और उनसे कहा :

कि मै आपके लिए एक नई स्कीम लेकर आया हूं आपको बस एक छोटा सा काम करना है आप लोग जाइए और पूरे गांव में जितने भी बन्दर है सबको पकड़ कर लाइए

और मै आपको हर बन्दर के सौ रूपए दूंगा सभी गांव वाले खेती करते थे लेकिन जब उन्होंने इस स्कीम के बारे में सुना तो बन्दर पकड़ने के काम में लग गए।

हर सुबह गांव वाले निकलते और पूरे गांव में घूमकर बन्दर पकड़ते शाम तक कोई दस बन्दर पकड़ता, कोई बारह पकड़ता तो कोई पंद्रह बन्दर भी पकड़ लेता ।

मतलब लोगो काम काम चलने लगा था मिला जुला कर गांव वालो का एक बिजनेस चलने लगा था।

हर शाम को लोग बन्दर पकड़ कर लेट है और अपने पैसे लेकर चले जाते वो आदमी उन बंदरो को पकड़ कर एक पिंजरे में बंद कर देता।

चुकी गांव वालो को उनका पैसा मिल जाता तो कभी किसी ने उस आदमी से ये पूछा ही नहीं की वो इन बंदरो का क्या करता है।

Success ka Shortcut in Hindi

उसके बाद धीरे धीरे गांव में बन्दर खत्म होने लगे अब लोग एक दो बन्दर ही पकड़ कर ला पाते।

अब इस आदमी की चिंता बढ़ने लगी इसे लगा कि अब लोग बन्दर पकड़ कर नहीं ला रहे है अब तो बन्दर खत्म हो गए है अब क्या होगा?

इसे चिंता तब और बढ़ गई जब लोगो ने इसकी बात पर ध्यान देना ही छोड़ दिया, सभी गांव वाले खेती करने लगे और अपना पुराना जीवन जीने लगे।

फिर उसने तरकीब लगाई और सभी गांव वालो को बुलाया और कहा अब अगर आप लोग बन्दर पकड़ कर लाएंगे तो आपको हर एक बन्दर के दो सौ रुपए दिए जाएंगे।

गांव वाले फिर से इसी काम में लग गए उनको लालच आ गई और अब वो बन्दर पकड़ने के लिए गांव के बाहर जाने लगे।

अब वो दूसरे गांव से बन्दर पकड़ कर लाने लगे कुछ गांव वाले तो ये काम छोड़ चुके थे पर कुछ गांव वाले अभी भी इस काम को कर रहे थे।

पर को लोग अभी भी इस काम को कर रहे थे वो बन्दर पकड़ कर लाते रहे उन्हें दो दो सौ रुपए मिलते रहे और किसी ने ये नहीं सोचा कि वो आदमी इन बंदरो का करेगा क्या?

अब धीरे धीरे आस पास के गांव के भी बन्दर खत्म हो चुके थे अब कही भी बन्दर नहीं रह गए थे

फिर इस आदमी ने कहा कि अब आपको एक बन्दर के पांच सौ रूपए मिलेंगे, ये सुनकर सभी गांव  वाले हैरान रह गए उन्होंने गांव की बैठक बुलाई और कहा कि ये आदमी तो पैसा बढ़ाता ही जा रहा है,

पर गांव में तो बन्दर है ही नहीं, गांव में तक छोड़ो अगल बगल के गांव में भी अब बन्दर नहीं बचे है और अब हम जंगल में तो बन्दर पकड़ने जाएंगे नहीं।

और उन्होंने काफी विचार करने के बाद उस आदमी से कह दिया की अब हम आपके लिए बन्दर पकड़ने का काम नहीं करेंगे।

ये सुनकर वो आदमी परेशान हो गया पर वो कर भी क्या सकता था वो गांव से चला गया।

सभी गांव वाले फिर से अपने अपने काम में लग गए वो खेती करने लगे और उसी में खुश रहने लगे।

पर एक दिन फिर से वो आदमी आया और अपने साथ एक और साथी को लेकर आया और आकर के उसने गांव वालो को फिर से इकठ्ठा किया,

और कहा कि अबकी बार आपके लिए एक नई स्कीम लेकर के आया हूं अगर आप अब बन्दर पकड़ कर लाएंगे तो आपको एक बन्दर के हजार रूपए दिए जाएंगे।

गांव वालो ने कहा कि ये कुछ नहीं देगा भला एक बन्दर के कोई हजार रुपए क्यों देगा गांव के मुखिया ने भी सबको समझाया कि ये बेकार को बातें कर रहा है ऐसा कुछ नहीं होगा।

पर वहीं कुछ गांव वालो को लगा कि नहीं वो आदमी हमेशा सच बोलता है और उसे हूं गांव वालो के साथ मजाक करके भला क्या मिलेगा वो सही कह रहा है वो एक बन्दर के हजार रूपए देगा।

वो आदमी अपने साथी को वहीं छोड़ कर चला गया और उसने कहा कि सुबह मै आऊंगा और तुम सब से बन्दर खरीद कर ले जाऊंगा।

उसके जाने के बाद उस मैनेजर साथी ने फिर से गांव वालो को इक्कठा किया और उनसे बोला कि देखो हमारे साहब तो चले गए है अब गांव में बन्दर है नहीं।

और ये बात तुम्हे भी पता है मुझे भी कि तुम लोग जंगल में बन्दर पकड़ने जाओगे नहीं आखिर क्यों जाओगे क्या जिंदगी पैसा से बढ़कर है

तुमलोग एक काम कर सकते हो हमारे पास पिंजरे ने हो बन्दर है उन्हें तुम पांच सौ रुपए में खरीद लो और जैसे ही कल सुबह साहब आएंगे तुम उन्हें बन्दर से देना और हर बन्दर के हजार रूपए ले लेना।

इस तरह एक रात में ही तुम्हारा पैसा दो गुना हो जाएगा और और तुम्हे इसके लिए कुछ करना भी नहीं पड़ेगा और मेरा भी काम हो जाएगा।

गांव वालो ने सोचा कि ये आदमी सही कह रहा है एक रात की ही तो बात है कल हम दो गुने पैसे मिल जाएंगे।

और गांव वालो के पास जितने भी पैसे थे जितने भी उन्होंने खेती करके कमाए थे सब पैसे लेकर आए और उस मैनेजर को देकर बन्दर खरीद लिया।

मैनेजर बन्दर बेच कर उस गांव से चला गया और दोबारा कभी उस गांव में नहीं उसका साहब आया और नहीं हो।

मतलब साफ था कि दोनों मिले हुए थे और गांव वालो को चुना लगा कर चले गए अब उस गांव का ये हाल है कि वहां पर आदमियों से ज्यादा बन्दर है को नाही लोगो खेती करने देते है और नाही चैन से जीने देते है

ये छोटी सी कहानी हम बहुत बड़ी बात सिखाती है कि जिंदगी में Success ka Shortcut in Hindi हममें से कई सारे लोग स्कीम के चक्कर में दोस्तो के चक्कर में अपने करियर को बर्बाद कर लेते है।

इसीलिए याद रखिए हमेशा कठिन परिश्रम ही आपने सफलता का रास्ता है ना और इसके अलावा सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं है और इसके अलावा कुछ नहीं,

इसलिए पूरी ईमानदारी के साथ मेहनत करते रहिए सफलता आपको जरूर मिलेगी

इन्हे भी पढ़े :-